NGOs India

Health

Corona Prevention Social awareness suggested

Social Activists, Social Groups and NGOs can conduct digital awareness campaigns to prevent infection with the corona virus

Voluntary organisations, Social Activists and Social Groups can conduct digital awareness campaigns to avoid Corona disease which has taken the form of epidemic worldwide due to SARS COVID-19. Social Activists, Social Groups, Non Profit Non Governmental organisations and social organisations need to manage awareness programme to make public cautious through their organisation’s Facebook page, in WhatsApp groups and though other available media. Social Activists, Social Groups and NGO can generate awareness by placing information on their blogs and websites, about the process and ways to control of the increasing risk of corona infection so that it can be control and stop to spread.

Aware to the people how to avoid infection
They have to tell that whenever they use to come from outside or they have touched someone or any of its goods or objects, then they must wash their hands with soap for 30 seconds. Because corona viruses spread through drops that fall from cough and sneeze on the objects.
So whenever the outsider or goods come in contact, wash hands thoroughly. Cover your mouth while coughing or sneezing. Avoid touching the eyes, nose and mouth if the hands are not clean. Avoid going to the crowded place. If you can not avoid to go, then you stand one meter away from the other persons.

What are the symptoms of corona virus?
According to the information found so far, the infected person has first suffers by fever in coronavirus (Covide-19). After this the person gets a dry cough and then after a week it starts having trouble in breathing. These symptoms do not always mean that the person has an infection with the corona virus. So far in severe cases of corona virus, pneumonia, excessive breathing difficulties, kidney failure, heart failure and even death have been caused to the virus infected person.
The risk can be serious in the case of elderly people and those who already have a disease (eg asthma, diabetes, heart disease). In Italy and Spain, most people who died from Corona virus infection are elderly and obese. Some of those who died were also those who had diabetes and hypertension.

How to prevent spreading spreading corona infection?
Doctor’s advice must be taken and followed in every case of suspecting infection. However, also keep in mind the information being given here.
If a person has come from an infected area or has been in contact with an infected person, then that person can be advised to stay alone. Those infected people have to stay at home, do not go to office, school or public places. Infected must not travel by public vehicles such as bus, train, auto or taxi. Do not call guests at home. Be more cautious if infected is living with family or colleagues or with other people, then stay in separate rooms and continuously sanitize shared kitchen and bathroom, clean it. Following this for atleast 14 days so that the risk of infection can be reduced. Doctor’s advice is important in every case of such infection. The patient should wear a mask. Change the mask daily. Do not touch the mask. Wear the mask in such a way that the nose and mouth are covered well. Because these viral particles can enter your body by way of breath when approaching an infected person.
If someone touches a place where these particles have fallen and then touches his eye, nose or mouth with the same hand, then these particles reach his body. In this case, using tissue papers while coughing and sneezing, not touching your face without washing your hands and avoiding contact with the infected person are very important to prevent the virus from spreading. If you are healthy, still keep social distancing from other person outside the house or from outside. Social distancing means staying away from each other so that the risk of infection can be reduced.
Social Activists, Social Groups and NGOs can use the information described above to prevent infection with the corona virus.

कोरोना फैलने से रोकने जागरूकता अपेक्षित

समाज सेवी व्यक्ति, समाज सेवी समूह, स्वयं सेवी संस्थाएं (एनजीओ) कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए डिजिटल जागरूकता अभियान चलाएं

SARS COVID -19 के कारण विश्व भर में महामारी का रूप ले चुकी कोरोना बीमारी से बचने के लिए स्वयं सेवी संस्थाएं डिजिटल जागरूकता अभियान चला सकती है. स्वयं सेवी संस्थाएं अपनी संस्था के फेसबुक पेज पर, व्हाट्सप्प ग्रुप्स में, अपने ब्लोग्स और वेबसाइट्स के जरिए जागरूकता अभियान चलाएं कि कोरोना के संक्रमण के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए इससे बचाव हेतु सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके. इस पर जन जागरूकता की जा सकती है.

एनजीओ, समाज सेवी समूह और समाज सेवी आम लोगो को समझाएं कि संक्रमण से कैसे बचा जाए
उनको बताना है कि वे जब भी बाहर से जाकर आएं या बाहर से आए किसी व्यक्ति को या उसके किसी सामान या वस्तु को उसने छुआ है तो बीस सेकंड तक अपने हाथ साबुन से जरूर धोएं. क्योंकि कोरोना के वायरस खांसी और छींक से गिरने वाली बूंदों के ज़रिए फैलते हैं.
इसलिए जब भी बाहरी व्यक्ति या सामान के सम्पर्क में आएं तो हाथ अच्छी तरह से धो ले. खांसते या छींकते वक़्त अपना मुंह ढक लें. हाथ साफ़ नहीं हो तो आंखों, नाक और मुंह को छूने बचें. भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाने से बचे. मज़बूरी में जाना ही पड़े तो अन्य व्यक्ति से एक मीटर की दूरी पर खड़े रहे.

कोरोना वायरस के लक्षण क्या है ?
अब तक मिली जानकारी के अनुसार संक्रमित व्यक्ति को कोरोनावायरस (कोवाइड-19) में पहले बुख़ार होता है. इसके बाद उसे सूखी खांसी आती है और फिर एक हफ़्ते बाद उसे सांस लेने में परेशानी होने लगती है. इन लक्षणों का हमेशा मतलब यह नहीं है कि उसको कोरोना वायरस का संक्रमण है. अब तक के कोरोना वायरस के गंभीर मामलों में निमोनिया, सांस लेने में बहुत ज़्यादा परेशानी, किडनी फ़ेल होना, हार्ट फेल होना और यहां तक कि मौत भी संक्रमित व्यक्ति की हुई है.
उम्रदराज़ बुजुर्ग लोग और जिन लोगों को पहले से ही कोई बीमारी है (जैसे अस्थमा, मधुमेह, दिल की बीमारी) उनके मामले में ख़तरा गंभीर हो सकता है. इटली और स्पेन में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वाले ज्यादातर लोग बुजुर्ग और मोटे लोग ही है. मरने वालो में कुछ लोग वे भी है जिन्हे डायबिटीज और हाइपरटेंशन की बीमारी थी.

कोरोना का संक्रमण फैलने से कैसे रोकें?
संक्रमण या संदेह के हर मामले में डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है. फिर भी यहाँ जो जानकारी दी जा रही है उसका भी ध्यान रखें.
अगर कोई व्यक्ति संक्रमित इलाक़े से आया हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहा हैं तो उसको अकेले रहने की सलाह दी जा सकती है. वो व्यक्ति घर पर रहें ऑफ़िस, स्कूल या सार्वजनिक जगहों पर न जाएं. सार्वजनिक वाहन जैसे बस, ट्रेन, ऑटो या टैक्सी से यात्रा न करें घर में मेहमान न बुलाएं. अगर आप और परिवार या साथियों के साथ या अन्य लोगों के साथ रह रहे हैं तो ज़्यादा सतर्कता बरतें. अलग कमरे में रहें और साझा रसोई व बाथरूम को लगातार सेनिटाईज़ करें, साफ़ करें. 14 दिनों तक ऐसा करते रहें ताकि संक्रमण का ख़तरा कम हो सके. रोगी मास्क पहन कर रखे. मास्क को रोज़ाना बदले. मास्क पर हाथ न लगाए. मास्क इस तरह पहने कि नाक और मुंह अच्छे से ढँक जाये. क्योंकि संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं.
अगर कोई किसी ऐसी जगह को छूता हैं, जहां ये कण गिरे हैं और फिर उसके बाद उसी हाथ से अपनी आंख, नाक या मुंह को छूते हैं तो ये कण उसके शरीर में पहुंचते हैं. ऐसे में खांसते और छींकते वक्त टिश्यू का इस्तेमाल करना, बिना हाथ धोए अपने चेहरे को न छूना और संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं. अगर आप स्वस्थ है फिर भी घर से बाहर या बाहर से घर आए हुए अन्य व्यक्ति से सोशल डिस्टेंसिंग रखे. सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब होता है एक-दूसरे से दूर रहना ताकि संक्रमण के ख़तरे को कम किया जा सके.
समाज सेवी व्यक्ति, समाज सेवी समूह और स्वयं सेवी संस्थाएं (एनजीओ) ऊपर बताई गई जानकारी को कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए काम में ले सकती है.

 

USEFUL LINKS:

Ministry of Health and Family Welfare, Gov. of India
https://www.mohfw.gov.in/

WHO : COVID-19
https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019

CDC
https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/faq.html

COVID-19 Global Tracker
https://coronavirus.thebaselab.com/